क्या डेबिट कार्ड में फ्री बीमा कवरेज है?

14 Min Read

Do Debit Cards Have Free Insurance Coverage?

डेबिट कार्ड आज के ज़माने में लगभग सभी के पास है, पर हम अक्सर इस भागती दौड़ती दुनियाँ में इतना व्यस्त हो जाते है की चीजों की डिटेल्स में इतना जाते ही नहीं। लेकिन क्या आपको पता है, आपके इस डेबिट कार्ड में एक खज़ाना छुपा हुआ है। हम बात कर रहें है इस पर मिलने वाले फ्री इंश्योरेंस या कह लें बीमा की। जो अक्सर आपका बैंक आपसे नहीं बताता है।

तो आइए जानते है क्या है ये डेबिट कार्ड पर मिलने वाला यह फ्री इंश्योरेंस, इसे आप कब और कैसे क्लेम कर सकते है, और सबसे बड़ा सवाल आखिर बैंक हमसे ये खज़ाना आखिर छुपाता क्यों है?

 

क्या है ये फ्री डेबिट कार्ड इंश्योरेंस?

(What is Free Debit Card Insurance?)

यह आपके डेबिट कार्ड पर मिलने वाला एक फ्री इंश्योरेंस है, जो विशेष परिस्थितियों में, आप अपने कार्ड के टाइप और जारी करने वाले बैंक के अनुसार प्राप्त कर सकते हैं।

इसमें पर्सनल एक्सीडेंट कवर, एयर एक्सीडेंट कवर, कार्ड लायबिलिटी कवर, और पर्चेस प्रोटेक्शन कवर जैसे फायदे शामिल हैं। कवरेज अमाउंट कार्ड के टाइप पर निर्भर करता है जो की 50,000 रुपए से लेकर रुपए 10 लाख रुपए तक भी हो सकता है।

 

मुझे कैसे पता चलेगा कि मेरे डेबिट कार्ड में यह इंश्योरेंस है?

(How Do I Know If My Debit Card Has Free Debit Card Insurance?)

अपने डेबिट कार्ड में इंश्योरेंस कवरेज है या नहीं जानने के लिए, आपको अपने डेबिट कार्ड के टाइप और उस कार्ड को जारी करने वाले बैंक की जाँच करनी होगी। अलग-अलग बैंक अपनी पॉलिसी और ग्राहक के अनुसार अलग-अलग टाइप के डेबिट कार्ड्स जारी करते है, जिनमें उसी के अनुसार कार्ड के हिसाब से इंश्योरेंस भी छुपे होते हैं।

उदाहरण के लिए, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) 4 टाइप के डेबिट कार्ड्स देती करती है: क्लासिक, सिल्वर, ग्लोबल, और प्लैटिनम। जहां हर एक कार्ड का उसके लेवल के आधार पर अलग-अलग इंश्योरेंस कवरेज अमाउंट होता है। SBI डेबिट कार्ड्स में मिलने वाले इंश्योरेंस कवर्स की जानकारी और अच्छे से उनकी वेबसाइट पर पा सकते हैं।

इसी तरह नीचे दिए गए लिस्ट में से, अपने बैंक पर क्लिक कर उनकी डेबिट कार्ड बिमा पालिसी के बारे में आप जान पाएंगे।

🔗 ICICI

🔗 SBI

🔗 HDFC

🔗 Axis Bank

🔗 Bank of Baroda 

🔗 Central Bank of India 

🔗 IDBI Bank 

🔗 Indian Bank

🔗 Kotak Mahindra Bank

🔗 Punjab National Bank

🔗 Yes Bank

 

 

डेबिट कार्ड पर मिलने वाले फ्री इंश्योरेंस के प्रकार

(Types of Free Debit Card Insurance)

आपके डेबिट कार्ड पर मिलने वाले फ्री इंश्योरेंस कवरेज कई तरह के होते है। जो की आपके कार्ड के टाइप, जारी करने वाले बैंक पर निर्भर करती हैं। यहाँ वैसे ही कुछ आम इंश्योरेंस कवर है जो आपके बैंक ने आपके डेबिट कार्ड पर दिए हो सकते है, वह हैं:

Types of Free Debit Card Insurance

 

1. Accidental Death and Disability Insurance:

यह कवरेज दुर्घटनावश मृत्यु होने पर आपके नॉमिनी को एक राशि प्रदान करता है। राशि आपके कार्ड के प्रकार और बैंक के आधार पर अलग–अलग हो सकती है। कुछ कार्ड विकलांगता कवरेज भी प्रदान करते हैं, जो दुर्घटना के कारण स्थायी रूप से विकलांग होने पर आपको मासिक लाभ देता है।

इस क्लेम के लिए जरूरी है की उस फ्लाइट का टिकट उस ही डेबिट कार्ड से खरीदा हुआ हो। जिसमें इस हवाई यात्रा के दौरान आकस्मिक मृत्यु या विकलांगता के मामले में भी आर्थिक सहायता प्राप्त होती है। हालंकि यह शर्त कुछ डेबिट कार्डों पर लागू नहीं होती है, जैसे कि SBI वीज़ा/सिग्नेचर/मास्टरकार्ड डेबिट कार्ड, इनमें टिकट कार्ड से ना खरीदें होने के बावजूद भी आप इंश्योरेंस क्लेम कर सकते हैं।

 

2. Lost Card Liability Insurance:

यह आपको आपके डेबिट कार्ड के खो जाने या चोरी होने के बाद किए गए अनधिकृत लेनदेन से बचाता है, आमतौर पर नुकसान की रिपोर्ट करने के बाद एक विशिष्ट समय सीमा (जैसे 24-72 घंटे) के भीतर करना जरूरी है।

आपको अपना डेबिट कार्ड खो जाने या चोरी हो जाने पर 24 घंटो के भीतर, कार्ड के खोने या चोरी होने की रिपोर्ट, बैंक को देनी होगी। जिस से इसके बाद होने वाले किसी भी प्रकार के गलत ट्रांजिक्शन का असर उस डेबिट कार्ड होल्डर पर नहीं पड़ता है। यह शर्त कार्ड लायबिलिटी कवर पर लागू होती है, जो आपको आपके कार्ड पर रिपोर्ट करने के बाद हुए किसी भी धोखाधड़ी वाले लेन-देन से बचाता है।

 

3. Purchase Protection Insurance:

यदि आपके डेबिट कार्ड से खरीदे गए उपयुक्त आइटम एक निश्चित अवधि (अक्सर 90-180 दिन) के भीतर क्षतिग्रस्त, चोरी, या खो जाते हैं तो यह आपको कवर करता है।

कवरेज राशि अलग–अलग होती है, जिसमे कई आइटम ऐसे भी है जो इस पॉलिसी में कवर ना होते हो, इसलिए नियम और शर्तों को ध्यान से पढ़ें।

 

4. Extended Warranty Insurance:

यह आपके डेबिट कार्ड से खरीदे गए एलिजिएबल सामानों पर मैन्युफैक्चर की वारंटी को बढ़ाता है। बढ़ाया गया समय और अधिकतम कवरेज राशि आपके कार्ड और बैंक के आधार पर अलग–अलग होती है।

यह ध्यान रखना जरूरी है कि यह मैन्युफैक्चर की वारंटी को रिप्लेस नहीं करता है, बल्कि सिर्फ इसमें जुड़ता है।

 

5. International Travel Insurance:

कुछ प्रीमियम डेबिट कार्ड आपातकालीन चिकित्सा निकासी, सामान के खोने/देरी होने का कवरेज, और यात्रा रद्द होने/बाधित होने जैसी यात्रा बीमा सुविधाएं प्रदान करते हैं।

ये आमतौर पर तब लागू होते हैं जब आप अपने कार्ड से यात्रा की टिकट बुक करते हैं। लेकिन इसमें भी कुछ कवरेज सीमा और चीजे है जो इसमें शामिल नहीं होती।

 

अन्य कवरेज:

कुछ डेबिट कार्ड अतिरिक्त लाभ प्रदान कर सकते हैं जैसे मोबाइल फोन इंश्योरेंस, एटीएम की फीस में छूट और प्राइस प्रोटेक्शन (यदि आपको एक समान कहीं और सस्ता मिलता है तो अंतर वापस हो जाता है)।

 

कुछ और शर्तें:

आपको अपने डेबिट कार्ड, घटना के दिन से पिछले 90 दिनों के भीतर कम से कम एक बार तो ज़रूर इस्तमाल हुआ हो। जैसे किसी ATM, दुकान, या ऑनलाइन शापिंग करने वाली जैसी जगहों में काम में आया हो। हालंकि RuPay डेबिट कार्ड्स वालो पर यह लागू नहीं हो सकता, तो RuPay कार्ड वाले इस शर्त की परवाह किए बिना क्लेम कर सकते है।

 

डेबिट कार्ड इंश्योरेंस क्लेम कैसे करें?

How to Claim Debit Card Insurance

(How to Claim Debit Card Insurance?)

अपने डेबिट कार्ड पर मिलने वाले इस फ्री इंश्योरेंस कवरेज को क्लेम करने के लिए, आपको नीचे दिए गए कुछ कदम उठाने होंगे:

1⃣ बैंक से संपर्क करें: सबसे पहले अपने बैंक के कस्टमर केयर को कॉल लगाए। यह कस्टमर केयर नंबर आपको अपने डेबिट कार्ड के पीछे या अपने बैंक के वेबसाइट पर भी मिल जायेगा। 

2️⃣ ज़रूरी जानकारी मुहैया करवाए: कस्टम केयर में कॉल लगने के बाद आपसे उस घटना की डिटेल मांगी जाएगी, जिसकी आप रिपोर्ट कर रहें हैं। उन्हें अपने इस इंश्योरेंस को क्लेम करने का कारण बताएं जिस से आपको या आपके कार्ड को नुकसान या हानि पहुंची है। कार्ड के खोने या चोरी होने पर याद रहें आपको घटना घटित होने के 24 घंटे के अन्दर रिपोर्ट करना होगा।

3️⃣ फार्म भर कर जमा करें: इसके बाद आपको बैंक द्वारा क्लेम फॉर्म  भरने के लिए कहा जाएगा। यह क्लेम फॉर्म ज़रूरी है। क्योंकि यह बैंक को आपको दी जानी वाली कवरेज की योग्यता और कीमत जो आपको दी जानी चाहिए को तय करने में मदद करता है। आप अपने बैंक की वेबसाइट से क्लेम फॉर्म डाउनलोड कर सकते हैं या कस्टमर सपोर्ट से इसके लिए रिक्वेस्ट कर सकते हैं।

4️⃣ जरूरी दस्तावेज़ जमा करें: अपने और अपने क्लेम को समर्थन देने के लिए ज़रूरी दस्तावेज और सबूत लगाएं। आपको अपने क्लेम पर कार्रवाई करवाने के लिए, निर्धारित समय सीमा के अंदर, बैंक को नीचे दिए गए ज़रूरी दस्तावेज और सबूत जमा करवाने होंगे।1. आपने डेबिट कार्ड की एक कॉपी

1. आपके ID प्रूफ की एक कॉपी

2. FIR या पुलिस रिपोर्ट की एक कॉपी (अगर जरूरी)

3. मृत्यु प्रमाण पत्र या अन्य विकलांगता प्रमाण पत्र की एक कॉपी (अगर जरूरी)

4. मेडिकल बिल्स या हॉस्पिटल रिपोर्ट्स की एक कॉपी, या दवा का टाइप (अगर जरूरी)

5. एयर टिकट या बोर्डिंग पास की एक कॉपी  (अगर जरूरी)

5⃣ अपने क्लेम की मंजूरी और सेटलमेंट का इंतजार करें: बैंक या इंश्योरेंस कंपनी आपके क्लेम और दस्तावेज को वेरिफाई करेगी और आपके क्लेम को उसी के अनुसार प्रोसेस करेगी। मंजूरी और सेटलमेंट के समय क्लेम के टाइप और पॉलिसी के टर्म्स और कंडीशंस पर निर्भर करता है। जब आपका क्लेम मंजूर हो जाता है, तब आप बैंक या इंश्योरेंस कंपनी से एक कन्फर्मेशन और एक पेमेंट रसीद प्राप्त करेंगे

 

बैंक हमसे फ्री डेबिट कार्ड इंश्योरेंस क्यों छुपाता हैं?

Why do Banks Hide Free debit Card Insurance from us

(Why do Banks Hide Free debit Card Insurance from us?)

लोगों को इस इंश्योरेंस का ना पता होने का सीधा मतलब है की बैंक खुद से जा कर इस लाभ के बारे में नहीं बताता। हालांकि इसकी सारी जानकारी आपको इनकी वेबसाइट पर मिल जायेगी, जो की वैसे तो किसी से छुपी हुई नही है। लेकिन जिसे अब इस इंश्योरेंस के बारे में पता ही नही है, उसे शायद कभी तुक्के से वेबसाइट पर ये जानकारी कही मिल जाए। वरना बैंक की बाकी स्कीम की तरह इसे बताने की कोई चाहत नहीं है।

तो यह कुछ कारण हो सकते है, जिसकी वजह से बैंक हमें इस फ्री डेबिट कार्ड इंश्योरेंस के बारे में नहीं बताती है:

1️⃣ बैंक का कोई प्रॉफिट मौजूद नहीं: डेबिट कार्ड के साथ यह इंश्योरेंस एक बोनस की तरह है— यह ऐसा कुछ अलग नहीं है जो बैंक अलग से बेचता है। जिसके कारण, बैंक को कोई फायदा नहीं होता बल्कि नुकसान हो होगा। तो बैंक तो चाहेगा ना की कम से कम लोग ही इसके लिए अप्लाई करें। जो की शायद एक बड़ा कारण है, जिस की वजह से बैंक हम से यह बात छुपाता है।

2️⃣ रूल्स की लंबी लिस्ट: जैसा की हमने ऊपर जाना, इस इंश्योरेन्स को क्लेम करने के लिए काफी अलग परिस्थितियां और रूल्स है। और चूंकि बैंक का कोई इसमें फायदा नहीं है, तो वो इस कन्फ्यूजन में नहीं फसना चाहता। शायद यह एक और वजह है, जिसके लिए बैंक समय को बचाते हुए,आपको जानकारी देना अवॉइड करती हैं।

3️⃣ कर्मचारियों को पता ना होना: अब जो आखिरी संभव कारण बचता है, वो शायद यह ही हो सकता है की, कर्मचारियों को खुद ही इस इंश्योरेंस के बारे में ना पता हो। हो सकता है बैंक जान के अपने कर्मचारियों को ट्रेंड ना करता हो, या केवल कम जानकारी देता हो, जिसे कर्मचारी भूल ही जाते है। हालंकि ऐसा होना बहुत मुश्किल है, लेकिन पैसों की दुनियाँ में सब संभव हैं।

       तो, अगली बार जब आप अपने डेबिट कार्ड के लिए हाथ बढ़ाएं, याद रखें कि आप बस एक मामूली डेबिट कार्ड नहीं पकड़ रहे हैं; बल्कि आप अनजान हालात के खिलाफ सुरक्षा का एक कवच भी लेकर घूम रहे हैं। डेबिट कार्ड पर मिलने वाला यह फ्री इंश्योरेंस ना जाने आपके कब काम आ जाये।


Exploring the New UPI ATM Experience No More Debit Cards?
Exploring the New UPI ATM Experience No More Debit Cards?

TAGGED:
Share this Article
Leave a comment