Indian Government vs WhatsApp: क्या व्हाट्सऐप बंद हो रहा है?

4 Min Read

Indian Government vs WhatsApp: क्या व्हाट्सऐप बंद हो रहा है?

हाल ही में, व्हाट्सएप और भारतीय सरकार के बीच एक गरमागरम बहस छिड़ी हुई है। इस लोकप्रिय मैसेजिंग सेवा ने चिंता व्यक्त की है, कि अगर उसे कुछ सरकारी नियमों का पालन करने के लिए मजबूर किया गया, तो उसे देश में अपनी सर्विस भी बंद करनी पड़ सकती है।

विवाद के केंद्र में है इनफॉर्मेशन टेक्नोलोजी (मध्यवर्ती दिशानिर्देश और डिजिटल मीडिया आचार संहिता) नियम, 2021। विशेष रूप से, नियम 4(2) विवाद का विषय बन चुका है।

यह नियम व्हाट्सएप जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म को अनिवार्य करता है, की कोर्ट के आदेश या सक्षम प्राधिकारी से निर्देश प्राप्त होने पर व्हाट्सएप को किसी मैसेज के “पहले सोर्स” की पहचान बतानी होगी।

.

व्हाट्सएप क्यों पीछे हट रहा है?

यहां व्हाट्सएप का तर्क उसकी एंड-टू-एंड एन्क्रिप्शन की प्राइवेसी की सुरक्षा पर टिका है। कंपनी का कहना है कि, इस ट्रेसेबिलिटी का अनुपालन करने के लिए इन्हें अपनी एन्क्रिप्शन को तोड़ना पड़ेगा, जिससे उसके यूजर्स की प्राइवेसी और फ्री स्पीच के मौलिक अधिकारों का उल्लंघन होगा। व्हाट्सएप ने एक याचिका दायर कर अदालत से कहा है कि, वह इस नियम को संविधान के विरुद्ध बताए और इसका पालन न करने पर किसी भी प्रकार की सजा पर रोक लगाए।

.

सरकार का क्या कहना है?

दूसरी ओर, भारत सरकार का तर्क है कि नियम सुरक्षित साइबरस्पेस बनाने और इल्लीगल कॉन्टेंट से निपटने के लिए बनाए गए हैं। सरकार का कहना है कि प्लेटफ़ॉर्म में मैसेज के सोर्स का पता लगाने के लिए एक सिस्टम होना चाहिए, खासकर राष्ट्रीय सुरक्षा, सार्वजनिक व्यवस्था और गंभीर अपराधों से के मामलों में।

.

यूजर का दृष्टिकोण

एक यूजर के रूप में, एक ही बात कही जा सकती है–प्राइवेसी पर हर किसी का अधिकार है। व्हाट्सएप को लोग खासतौर पर इसके end–to–end Encription के लिए ही इस्तेमाल करते है, इसे तोड़ना यूजर की प्राइवेसी को तोड़ने के सामान है।

वर्तमान में, व्हाट्सएप को चीन, उत्तर कोरिया, सीरिया, कतर और यूएई जैसे देशों में प्रतिबंधों है – ऐसे देश जहां प्राइवेसी और मौलिक अधिकारों को अक्सर चुनौती दी जाती है। यह तुलना भारत में प्राइवेसी से जुड़े अधिकारों की संभावित दिशा के बारे में चिंता पैदा करती है।

.

यह भी पढ़े: नहीं ले पाएंगे अब आप WhatsApp पर Screenshot

.

क्या व्हाट्सऐप बंद हो रहा है?

फिलहाल अभी कोर्ट इस बारे में सोच रही है। व्हाट्सएप के वकील कह रहे हैं कि अगर उन्हें मैसेज को निजी रखने वाले कोड को तोड़ना पड़ा, तो व्हाट्सएप को भारत में काम बंद करना पड़ सकता है। फिलहाल दिल्ली की अदालत ने अभी तक इसमें कोई अंतिम फैसला नहीं किया है।

आज के समय में भारत में लगभग 400 मिलियन लोग, एक दूसरे से बात करने के लिए व्हाट्सएप का इस्तेमाल करते हैं। तो Indian Government vs WhatsApp की इस लड़ाई में, अगर व्हाट्सएप बंद हो जाता है, तो इससे हर किसी पर छोटे या बहुत बड़े प्रभाव पड़ेंगे।


यह भी पढ़े: Telegram vs WhatsApp: 15 ऐसी वजह जो Telegram को बनता है बेहतर 

TAGGED:
Share this Article
Leave a comment