Morning Phone Addiction: सुबह उठते ही लग जाते है रील देखने? 📲

5 Min Read

Morning Phone Addiction: सुबह उठते ही लग जाते है रील देखने? 

क्या आपके साथ भी अक्सर ऐसा होता है: सुबह का अलार्म बजा नहीं की हमारा हाथ जाता है सीधे फोन पर। कुछ लोग व्हाट्सएप/इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया इस्तेमाल करते है, तो कुछ लोग न्यूज हेडलाइन देख लेते है, तो कुछ रील या शॉर्ट्स देखना चालू कर देते है।

पर अगर मैं आपको बताऊं कि आपका  यह Morning Phone Addiction, आपके लिए मुसीबतें पैदा कर रहा हैं। रुकिए अभी आप अच्छे से समझ जायेंगे, की ये सुबह सुबह फोन पे लगने की आदत कितनी खराब, स्वास्थ के लिए हानिकारक, और आपकी ही प्रोडक्टिविटी को कम कर रही है।

जब आप लंबी नींद से उठते है, तो आपका दिमाग गहरी नींद (delta waves) से जागने को स्थिति (theta waves) में बदलता है। तो यह theta waves हमारे लिए बहुत जरूरी है, क्योंकि यह आपके सबकॉन्सियस माइंड को छूती है। इस समय में आप अपने गोल और प्रोडक्टिव दिन की प्लानिंग कर सकते है। लेकिन फोन इस्तेमाल करने पर यह क्रिया डिस्टर्ब हो जाती है, और पूरे दिन प्रोडक्टिव नहीं।हो पाते।

2018 की Behavioral Addictions के जर्नल में पाया की सुबह उठते ही 15 मिनिट फोन इस्तेमाल करने से स्लीप डिस्टर्बेंस और दिन भर थकान बढ़ती है, बल्कि उन लोगों में भी जो की पूरी नींद ले रहे थे।

brain waves

दिमाग पर बुरा प्रभाव

1. स्ट्रेस और डिस्ट्रेक्शन:

तुरंत उठते ही फोन चलाने पर, आप Theta और Alpha के स्टेज को बायपास कर जाते है। और अच्छे से जागने की स्थिति में आने के बजाय, आपका दिमाग तुरंत से alert beta state में आ जाता है। यानी आपके दिमाग को आपके उठते ही स्ट्रेस लेना पड़ता है। इस तरह उठने की धीमी प्रोसेस को बिगाड़ने से आपको पूरा दिन स्ट्रेस और डिस्ट्रेक्टेड फील होता है।

2. नेगेटिविटी ट्रिगर:

2020 में Computers in Human Behavior की स्टडी ने दिखाया की सुबह सुबह अपने फोन को सोशल मीडिया और न्यूज देखने का संबंध सीधा सीधा खराब मूड और अपनी हेल्थ में बुरा फील होता है।

2017 की International Journal of Stress Management की स्टडी बताती है की वर्क ईमेल जैसी चीज सुबह सुबह देखने से स्ट्रेस और एंजाइटी के लेवल बढ़ता है। बल्कि उनमें भी, जो वीकेंड में काम नही कर रहे होते।

सुबह–सुबह उठते ही दुनियां जहां की खबरे देखना या काम से संबंधित ईमेल हो सकता है आपको नुकसानदेह लगे, लेकिन असालें यह आपके स्ट्रेस रिस्पॉन्स को ट्रिगर करते है। और आप न चाहते हुए भी अपना दिन नेगेटिव टोन में शुरू करते हैं। तो नेगेटिविटी न ट्रिगर करने के लिए, उठने के बाद कम से कम 1 घंटे तक फोन में काम से संबंधित चीजें या समाचार न देखे, तो ही बेहतर है।

तो सुबह उठ के क्या किया जाए?

is it okay to be Angry Without Feeling Bad?

1. 🧘‍♂️ गहरी सांसे लेना: अपने फोन तक पहुंचने से पहले थोड़ी देर बैठ कर गहरी सांसे यानी डीप ब्रीथिंग करें। इस से आपका दिमाग ऑक्सीजेनेट होता है और पूरे दिन के लिए एक काम टोन सेट कर देता है।

2. ☕ सुबह के काम: कोशिश करें आप सुबह पॉजिटिव चीजें पहले करें। अब चाहे वो स्ट्रेचिंग, मेडिटेटिंग, या 1 कप शांति से चाय पीना ही क्यों न हो, यह रूटीन आपके दिमाग को पोषण देता है।

3. 🏆 गोल सेट करे: theta waves के दौरान, अपना गोल निश्चित करें। सफलता, खुशियां और परिपूर्णता की कल्पना करें, इस से आपको खुद पॉजिटिव महसूस होगा।

4. 📵 खुद को समय दें: डिजीटल दुनियां में जाने से पहले, अपने आप को कम से कम 30 मिनिट जरूर दें। इस समय को अपने खुद के साथ कनेक्ट होने और इरादे तय करने में लगाएं।

याद रखें आपके दिमाग को प्यार और आराम से उठने की जरूरत है, उसे उठते ही मेहनत भरे काम में मत लगाइए। तो अगली बार जब आप नींद से उठे, अपने फोन को देखने की चाहत को रोक। इस से अच्छे आप सुबह को इंजॉय करें, सुबह के ठहराव को महसूस करें और आपने पूरा दिन दौड़ना ही है, तो कम से कम अपने दिन की शुरुआत शांति से करें। 🌄🧠


Dark Reality of Bigg Boss: समाज के लिए हानिकारक ☠️

Dark Reality of Bigg Boss: समाज के लिए हानिकारक

लोग गुस्से में फोन क्यों पटकते है? वजह जान कर चौंक जाएंगे

लोग गुस्से में फोन क्यों पटकते है? वजह जान कर चौंक जाएंगे

Share this Article
Leave a comment