Mosquito of Digital World: टॉयलेट में फोन चलाने के खतरे

5 Min Read

डिजिटल युग का मच्छर: टॉयलेट में फोन चलाने के खतरे

टॉयलेट में बैठे-बैठे समय बिताने के लिए फ़ोन चलाना भले ही एक हानिरहित तरीका लगे, लेकिन इसके खतरों को जानना ज़रूरी है। जिस तरह मच्छर बीमारियाँ फैलाते हैं, उसी तरह हमारे फ़ोन, जिन्हें सही मायने में “Mosquito of Digital World” कहा जा रहा है।

हाल ही में हुए एक सर्वे के अनुसार, 61.6% लोग यह मानते है, की वह सोशल मीडिया इस्तेमाल करने के लिए फोन टॉयलेट में फोन इस्तेमाल करते है। तो वहीँ 33.9% लोग यह मानते है, की वह टॉयलेट में फोन करंट अफेयर्स से updated रहने के लिए ले जाते है। तो वही 24.5% लोगों का मान ना था, की वो वाशरूम में फोन मेसेज और बल्कि कॉल तक के लिए ले जाते है।

ऐसे में, टॉयलेट के वातावरण में बैक्टीरिया का प्रजनन स्थल बन जाते हैं। एक्सपर्ट्स और यहां तक कि कुछ उदाहरणों से भी इस मामूली आदत से जुड़े जोखिमों का पता चलता है।

.

टॉयलेट में फ़ोन चलाने के खतरे

.

 शारीरिक स्वास्थ्य:

  1. बवासीर: लंबे समय तक बैठे रहना, खासकर फ़ोन में खोए रहने के कारण ज़ोर लगाते रहना, मलाशय की नसों पर दबाव बढ़ा सकता है, जिससे बवासीर हो सकती है।
  2. कब्ज: फ़ोन चलाने से आप अपने शरीर के प्राकृतिक सिग्नल्स से विचलित हो सकते हैं, जिससे समय के साथ अधूरा मलत्याग और कब्ज हो सकती है।
  3. UTI: टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद अगर आप हाथ ठीक से नहीं धोते हैं, तो आपके हाथों और फ़ोन पर मौजूद बैक्टीरिया आपके मूत्र मार्ग में जा सकते हैं।
  4. लकवा: हाल ही में एक मामले में टॉयलेट में बैठे-बैठे फ़ोन चलाने के कारण लंबे समय तक ज़ोर लगाने से तंत्रिका क्षति का गंभीर लेकिन संभावित खतरा सामने आया है।
  5. पैर सुन होना: लंबे समय तक बैठे रहने से पैरों में रक्त संचार कम हो सकता है, जिससे अस्थायी सुन्नता हो सकती है।

.

 सफाई और कांटेमिनेशन:

  1. फ़ोन पर हानिकारक बेक्टीरिया: बाथरूम बैक्टीरिया से भरे होते हैं, जो आसानी से आपके फ़ोन में जा सकते हैं। ये बैक्टीरिया फिर आपके हाथों और चेहरे को दूषित करते हैं, जिससे बीमारी हो सकती है।
  2. कीटाणुओं का फैलना: टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद हाथ ठीक से न धोने से बैक्टीरिया आपके फ़ोन पर रह जाते हैं, जो फिर दूसरी लोगों में फैल सकते हैं।

.

मानसिक स्वास्थ्य:

  1. शरीर के सिग्नल्स से अलर्ट न होना: फ़ोन चलाने से आप अपने शरीर के प्राकृतिक सिग्नल्स, जैसे शौच करने की इच्छा या ज़ोर न लगाने की ज़रूरत, को सुन लेने से चूक सकते हैं।
  2. नकारात्मक मानसिक प्रभाव: ज़्यादा फ़ोन इस्तेमाल करने से anxiety, depression और नींद की कमी हो सकती है।

A man using laptop and phone in toilet

.

बाथरूम में फोन नहीं, बल्कि स्वस्थ आदतें अपनाएं

बाथरूम में समय बिताने के लिए फ़ोन चलाने के जोखिमों को समझने के बाद, आइए अब कुछ स्वस्थ आदतों पर नज़र डालते हैं जिन्हें अपनाया जा सकता है:

  • अपने मनोरंजन को डिजिटल से वास्तविक दुनिया में ले आएं: टॉयलेट में बैठे वक्त किताबें, पत्रिकाएं या सुडोकू का आनंद उठाएं। ये न केवल आपका मनोरंजन करेंगी, बल्कि आपका ज्ञान भी बढ़ाएंगी।
  • अपने शरीर से जुड़ें: माइंडफुलनेस का अभ्यास करें। अपनी सांसों पर ध्यान दें, अपने शरीर की संवेदनाओं को महसूस करें। यह तनाव कम करने और अपने शरीर को बेहतर समझने में मदद करेगा।
  • कुछ हल्के व्यायाम करें: योग के आसान या हल्के स्ट्रेचिंग आपके शरीर को एक्टिव रखने और ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने में मदद करेंगे।
  • अपने आसपास साफ-सफाई का ध्यान रखें: सफाई का सामान हमेशा हाथ में रखें और बाथरूम को साफ-सुथरा रखें। इससे बैक्टीरिया कम फैलेंगे और वातावरण साफ़ रहेगा।
  • अपने हाथों को साफ रखें: टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद और बाथरूम से बाहर निकलने से पहले हमेशा साबुन और पानी से हाथ धोएं। यह सबसे बेहतर साफ़ता आदत है।

.

ये छोटे-छोटे बदलाव न केवल आपके शारीरिक स्वास्थ्य के लिए बल्कि आपके मानसिक स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती के लिए भी फायदेमंद साबित होंगे। बाथरूम को फोन के इस्तेमाल के बजाय, स्वस्थ आदतों को अपनाने और अपने शरीर की देखभाल करने का स्थान बनाएं। याद रखें, आपका स्वास्थ्य सबसे ज़रूरी है!

मुझे आशा है कि यह आर्टिकल आपको बाथरूम में फ़ोन न चलाने के लिए प्रेरित करेगा और ज्यादा स्वस्थ आदतों को अपनाने का रास्ता दिखाएगा।


AI Girlfriend: डिजिटल ज़माने के लिए एक वर्चुअल साथी

AI Girlfriend: डिजिटल ज़माने के लिए एक वर्चुअल साथी

Phone Eavesdropping: क्या आपका फोन आपकी बातें सुन रहा है?

Phone Eavesdropping: क्या आपका फोन आपकी बातें सुन रहा है?

Share this Article
Leave a comment