क्या आपकी भी है Sign in with Google पर क्लिक करने की आदत? जानें कितना खतरनाक है

5 Min Read

क्या आपकी भी है Sign in with Google पर क्लिक करने की आदत? जानें कितना खतरनाक है

इस भागती दौड़ती दुनियां में हम भी बिना थमें किसी न किसी जल्दी में है। अब जल्दीबाज़ी में ना जाने कौन सी वेबसाइट या ऐप में हमें एक अकाउंट बनाने को बोला जाता है। तो अक्सर हम जल्दीबाजी मैनुअली अकाउंट बनाने के बजाय “Sign in with Google” वाले बटन पर क्लिक कर देते हैं। अब इस से ना हमारा समय बचता है, बल्कि हमने फालतू में सारी डिटेल भरने की ज़रूरत पड़ती नहीं।

Sign in with Google (SiG) असल में एक हिडेन कॉस्ट के साथ आपकी प्राइवेसी के साथ खिलवाड़ करता है। यह वेबसाइट आपके अकाउंट से आपके ऑनलाइन एक्टिविटी की हर जानकारी किसी परछाई की तरह निकल लेते हैं। यह परछाई हालांकि आपको टारगेट एड्स दिखाने के लिए ऐसा करती है, लेकिन साथ ही में यह कई सारे रेड फ्लैग को भी उत्पन्न करती है।

.

प्राइवसी की दुश्मन

Xiaomi is being biased toward Indian Youtubers

कितना अजीब लगता है ना की आप पिज़्ज़ा के बारे में सोच ही रहे है, तब ही आपको पिज़्ज़ा का ऐड आने लगता है। अब यह तो रही मजाक की बात, लेकिन कई केस में आपके आस पास की बातचीत को, आपको ऐड्स दिखाने के लिए शायद से इस्तेमाल किया जाता है।

पर हां अगर आप कोई जूते ढूंढ रहे थे, तो उसके पूरे पूरे चांस है, की आगे आप जो भी वेबसाइट इस्तेमाल करेंगे, उसमें इस ही जूते के ऐड्स आपको अब आने वाले है। तो इसका कारण आपकी इस परछाई ने सारे राज़ जा कर इन कंपनी के सामने उड़ेल दिए।

लेकिन काश मामला सिर्फ टारगेट ऐड्स तक ही सीमित होता। SiG आपके ऑनलाइन परछाई का एक लोखा झोखा है, जिसके सारे दस्तावेज गूगल के पास है। जिस से डाटा ब्रीच होने को दिखते है। कभी कभी सरकार भी यह डाटा मांग के हैं।

.

आप क्या कर सकते है?

Sign in with Google (SiG) बेशक से एक असरदार तरीका है, जल्दी जल्दी से किसी वेबसाइट या नए ऐप को दिखने का की वो आपके कितने काम का है। पर इस से बचने के लिए आप कुछ जुगाड कर सकते है, ताकि आपका काम भी झटपट हो जाए, और आपको अपनी प्राइवसी की टेंशन भी न लेनी पड़े।

.

करें अपना डाटा डिलीट: 

Consumer Privacy Protection: Government Takes Action on Unauthorized Mobile Number Collection

सबसे पहले खतरा कम करने के लिए, आपको पहले परमिशन दी जा चुकी सारी वेबसाइट या ऐप से अपने गूगल का डाटा डिलीट करना होगा। इसके लिए आप –

  • फ़ोन सैटिंग में जाएं
  • गूगल पर क्लिक
  • मैनेज योर गूगल अकाउंट
  • डाटा एंड प्राइवेसी पर क्लिक करें
  • थर्ड पार्टी ऐप्स एंड सर्विस पर सेलेटेक
  • यहां आपको जिस भी ऐप या वेबसाइट के पास आपका डाटा होगा, एक क्लिक पर उसे डिलीट किया जा सकता है।

.

एक बैकअप अकाउंट

The importance of smartphone backup cannot be overstated

अब ऐसा नहीं की हम कहें Sign in with Google इस्तेमाल करना बंद कर दीजिए, वो प्रैक्टिकल नहीं होगा। इस से अच्छा आप एक अलग से अकाउंट बना कर रखें, जिसका इस्तेमाल आप केवल सिर्फ कभी कभी या सिर्फ एक बार काम आने वाली साइट पर इस्तेमाल किया जा सकता है। कोशिश करें अपनी सही जानकारी काम से काम उस अकाउंट को दें, जिस से आपका डाटा जाने के। चांस बिल्कुल कम हो जाते है।

.

डाटा मिटने वाला दिन निर्धारित करें:

Smartphone Distraction: एक डिस्ट्रेक्शन की कीमत तुम क्या जानो रमेश बाबू

अब जब आप अपना डाटा डिलीट कर चुके है, तो ज़रूरी है की आप उसे मोनिटर भी करें। समय समय पर इसे रिव्यू करें, ताकि आप समय के साथ वह वह डाटा डिलीट करते जाए, जिसकी अब जरूरत आपको नहीं।

याद रखें, आपकी ऑनलाइन प्राइवेसी आपकी ताकत है, जिसका किसी और के हाथों में जाना आपके लिए।नुकसान देह हो सकता है। यह समझकर कि SiG कैसे काम करता है और अपने डेटा को मैनेज करने के लिए कदम उठाकर, आप अपने ऑनलाइन हिस्ट्री को सुरक्षित और नियंत्रण में रख सकते हैं।

तो अगली बार जब “Sign in with google” बटन दिखाई दे, तो याद रखें, आपके पास अपनी प्राइवेसी से समझौता किए बिना, दिमाग लगा कर इसे धोखा दे सकते है।


आखिर Wireless Charger काम कैसे करता है? 

आखिर Wireless Charger काम कैसे करता है? 

XMail: Elon Musk निकालने वाला है Gmail का दुश्मन 

TAGGED:
Share this Article
Leave a comment