सोशल मीडिया के ब्यूटी स्टैंडर्ड्स के पीछे का बदसूरत सच

9 Min Read

The Ugly Truth Behind Social Media Beauty Standards

क्या आपको कभी सोशल मीडिया पर स्क्रॉल करने के बाद कभी अपने पहनावह और शरीर के बारे में असुरक्षित महसूस हुआ है? क्या आपने कभी अपनी तुलना उन सेलिब्रिटी और इन्फ्लुंसर से की है, जिनके पास परफेक्ट बॉडी और बेदाग चेहरा हैं? क्या आपने कभी खुद को भूखा रखा है, या हानिकारक सप्लिमेंट्स लिए है?

यदि इनमें से किसी भी प्रश्न का उत्तर आपने हाँ में दिया है, तो आप अकेले नहीं हैं। सोशल मीडिया द्वारा प्रोमोट किये जाने वाले अवास्तविक और फेक ब्यूटी स्टैण्डर्ड के कारण दुनिया भर में लाखों लोग कम आत्मसम्मान, शारीरिक असंतोष और ईटिंग डिसआर्डर से पीड़ित हैं।

सम्बंधित विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें।

 

कुछ चौंकाने वाले आँकड़े

हाल ही की एक अध्ययन के अनुसार, अमेरिका में 10 वर्ष से कम उम्र की 80% से ज्यादा लड़कियां ईटिंग डिसआर्डर से जूझ रही हैं। उन्होंने खाना बंद कर दिया है, क्योंकि वह इंस्टाग्राम और फेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर सेलिब्रिटी की फोटोशॉप और फ़िल्टर की गई फोटोज से प्रभावित होकर, वो अपने शरीर से नाखुश हैं।

लेकिन यह सिर्फ युवा लड़कियों की समस्या नहीं है। लड़के और पुरुष भी मस्कुलर और फिट दिखने के दबाव से प्रभावित होते हैं। लाउड वाटर के एक 23 वर्षीय व्यक्ति केमरोन ने सोशल मीडिया पर देखे गए मॉडलों से प्रेरित होकर, अपने शरीर को आकार देने के लिए स्टेरॉयड लिया।

अथर राशिद जिन्हें अपने गंजे होने से परेशानी थी, जिसके लिए उन्होंने हेयर ट्रांसप्लांट कराया जो की फेल हो गया और उनकी मृत्यु हो गयी।

और यह केवल अमेरिका या भारत के लिए समस्या नहीं है। वजन कम करने के लिए, चीन की एक 15 साल की लड़की, शाओ-यू की सख्त डाइट करने के कारण भूख से मृत्यु हो गई। वह एनोरेक्सिया नर्वोसा से पीड़ित थी, जो एक गंभीर मानसिक बीमारी है, जिसके कारण लोगों में दुबले होने का जुनून सवार हो जाता है और वह वजन बढ़ने से डरते हैं।

 

क्यों सोशल मीडिया की फोटो असली नहीं?

(Why are photos on social media not real?)

लेकिन क्या होगा अगर हम आपसे कहें कि सोशल मीडिया पर आप जो फ़ोटोज़ देखते हैं, उनमें से ज्यादातर असली नहीं हैं? क्या होगा अगर हम आपसे कहें कि जिन सेलिब्रिटी और इन्फ्लुंसर की आप प्रशंसा करते हैं और उनसे जलते हैं, वह उतने परिपूर्ण नहीं हैं जितने वह दिखते हैं।

सेलिब्रिटी और इन्फ्लुंसर द्वारा सोशल मीडिया पर अपने शरीर, जॉलाइन, पतली कमर को दिखाने वाली जो फ़ोटोज़ पोस्ट की जाती हैं, वह सभी नकली हैं। वह इन फोटोज में तीन मुख्य तरीकों से मेनिपुलेट करते हैं:

1. फ़ोटोशॉप या एंगल

Kim Kardashian photoshop fail photo on beach

फ़ोटोशॉप जैसे सॉफ़्टवहयर का उपयोग करके, या कुछ एंगल्स से या एक प्रकार की लाइटनिंग के साथ फ़ोटो लेकर, वह खुद को पतला, लंबा, स्मूथ या ज्यादा मरदाना दिखा सकते हैं।

उदाहरण के लिए,

  • क्लोयी कार्दशियन, प्रसिद्ध बहनों में से एक, जिन्होंने लोगों के लिए कई नकली स्टैण्डर्ड स्थापित किए हैं, ने स्वीकार किया है कि वह लाइटनिंग और एंगल्स का उपयोग करती हैं और एडिट भी करती हैं।
  • इनकी बहन किम कार्दशियन एडिट इतनी ज्यादा कर दी गयी की गलती से एक एक्स्ट्रा उंगली भी एडिट कर डाली।
  • एलिस फ्रैंक, एक अमेरिकी इन्फ्लुएन्सर, जिनके चैनल पर वजन घटाने की टिप्स होती है, ने यह भी दिखाया कि लाइटनिंग को एडजस्ट करके, वह अपने पेट को छोटा दिखा रही थी।
  • भारत में, करीना कपूर की मैगजीन फोटो में उनकी जांघों को पतला दिखाने के लिए एडिट किया गया था।
  • परिणीति चोपड़ा की जॉलाइन बनायीं गयी थी।
  • ऐश्वर्या राय को और खूबसूरत दिखने के लिए एडिट किया गया।
  • यहां तक कि सलमान खान के सिक्स-पैक एब्स भी एडिटिंग के जरिए बनाए गए थे।

ये सब नकली हैं, फोटो खुद एडिटेड और फोटोशॉप्ड है, वही बॉडी, वही जॉलाइन, आप कभी भी वह आंकड़ा हासिल नहीं कर पाएंगे क्योंकि यह असंभव है।

 

2. प्लास्टिक सर्जरी

Shilpa Shetty plastic surgery

यह कुछ विशेषताओं को बदलने या बढ़ाने के लिए सर्जिकल या गैर-सर्जिकल प्रक्रियाओं से गुजरकर नकली सुंदरता बनाने का एक और तरीका है। ऐसे कई सेलिब्रिटीज हैं जिन्होंने अपने चेहरे में बदलाव करवाकर प्लास्टिक सर्जरी करवाई है। जैसे कार्डी बी, बेला हदीद, या कैटी पेरी, अमेरिका के कुछ उदाहरण हैं। भारत में, शाहरुख खान, कैटरीना कैफ, शिल्पा शेट्टी और भी कई सेलीब्रिटी ने फिलर्स का विकल्प चुना हैं। सैफ अली खान ने भी हाल ही में बोटोक्स लिया है।

वह प्राकृतिक सुंदरता नहीं हैं, वह कृत्रिम रूप से बनाई गई हैं। आप हीरो-हीरोइन के लिए सुन्दरता के जो स्टैण्डर्ड देख रहे हैं, वह पूरी तरह से झूठे हैं।

 

3. स्पेशल ट्रेनिंग और डाइट

Disha-Patani-Tiger-Shroff-Dwayne-Johnson-Gal-Gadot-784x436

इन लोगों जैसा शरीर पाने के लिए जैसी जीवनशैली की ज़रूरत होती है, उसको सामान्य लोग द्वारा फॉलो कर पाना लगभग असंभव होता है। दिशा पटानी, टाइगर श्रॉफ, अक्षय कुमार और ऋतिक रोशन जैसी सेलिब्रिटी का शरीर सुडौल हो सकता है, लेकिन उन्हें हासिल करना असंभव के करीब है।

उदाहरण के लिए, टाइगर श्रॉफ जिम में तीन से चार घंटे बिताते हैं। विशेष सेलिब्रिटी ट्रेनर बताते हैं कि उन्हें कम से कम आठ घंटे की गहरी नींद, स्ट्रिक्ट डाइट और सही खान-पान की आदतों की ज़रूरत होती है। वह जंक फूड, शराब और चीनी से बचते हैं।

और आप 9 से 5 की नौकरी कर रहे होंगे, पढ़ाई कर रहे होंगे, या कुछ और कर रहे होंगे। अगर आप जिम में दो से तीन घंटे बिताते हैं और सात से आठ घंटे सोते हैं, तो आप दिवालिया हो जाएंगे। जिस बॉडी को आप स्टैण्डर्ड के रूप में स्थापित कर रहे हैं, वह एक ट्रेनर की मदद से बनाई गई है, जिसकी फीस बहुत ज्यादा है। क्रिस गेथिन ने ₹20 लाख प्रति माह चार्ज करके ऋतिक रोशन को प्रशिक्षित किया।

 

असली और हेल्थी सुन्दरता

सुंदरता को किसी पैमाने पर नंबर से, ड्रेस की साइज़ से, या चेहरे की शेप से परिभाषित नहीं किया जाता है। खूबसूरती को लाइक, कमेंट या फॉलोअर्स से नहीं मापा जाता। सुंदरता कोई ऐसी चीज़ नहीं है जिसे खरीदा, बेचा या मेनिपुलेट किया जा सके। सुंदरता वह चीज़ है जो भीतर से आती है, आपके व्यक्तित्व, आपके चरित्र, आपके मूल्यों और आपके कार्यों से।

आप सुंदर हैं क्योंकि आप यूनिक हैं, क्योंकि आप आप हैं। आप खूबसूरत हैं क्योंकि आपके पास दिल है जो धड़कता है, दिमाग है जो सोचता है, और आत्मा है जो महसूस करती है। आप खूबसूरत हैं क्योंकि आपके पास सपने, जुनून और लक्ष्य हैं। आप खूबसूरत हैं क्योंकि आपमें ताकत, कमजोरियां और खामियां हैं। आप खूबसूरत हैं क्योंकि आपके पास इमोशन, एक्सप्रेशन और ओपेनियन हैं।

आप खूबसूरत हैं और आपको यह बताने के लिए किसी और की जरूरत नहीं है। आपको किसी और के स्टैंडर्ड्स में फिट होने के लिए खुद को बदलने की ज़रूरत नहीं है। किसी और जैसा दिखने के लिए आपको खुद को नुकसान पहुंचाने की जरूरत नहीं है। खुश रहने के लिए आपको किसी और का फॉलो करने की ज़रूरत नहीं है।

जैसे आप हो आपको वैसा ही बनना पड़ेगा, और अपनी असली और हेल्थी सुंदरता को अपनाने की जरूरत है। 💖


यह भी पढ़ सकते है:

Gen Z Mental Health: How Social Media is Ruining the Lives of Gen ZGen Z Mental Health: How Social Media is Ruining the Lives of Gen Z

Instant Loan Scam से रहें सावधान: कैसे एक चीनी ऐप घोटाले ने कई भारतीयों को आत्महत्या ओर धकेलाInstant Loan Scam से रहें सावधान: कैसे एक चीनी ऐप घोटाले ने कई भारतीयों को आत्महत्या ओर धकेला

TAGGED:
Share this Article
Leave a comment