नहीं है इंस्टाग्राम टीनेजर्स के लिए: समाज के लिए असली एनिमल

16 Min Read

Why Instagram is not for Teens?

इंस्टाग्राम, जो कभी अपने दोस्त यारो से जुड़ने का प्लेटफॉर्म था, लेकिन अब एक परेशान करने वाले बदलाव का सामना कर रहा है। हाल ही एक जांच से कई परेशान करने वाली चीजें सामने आई है: इंस्टाग्राम तेजी से अश्लील चीजों को बढ़ावा देने वाला एक प्लेटफॉर्म बनता जा रहा है, जिससे आज युवाओं और समाज पर गंभीर परिणाम देखे जा रहे हैं।

इस आर्टिकल में, हम एक चौंकाने वाले प्रयोग के निष्कर्षों पर चर्चा करेंगे, समाज पर इसके प्रभावों पर चर्चा करेंगे और हमारी युवा पीढ़ी की भलाई की सुरक्षा के लिए संभावित समाधान प्रस्तावित करेंगे।

पूरी विडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

तो क्या है इस रिपोर्ट में?

 

टेलीग्राफ एक्सपेरिमेंट (Telegraph Instagram Experiment)

टेलीग्राफ ने एक खुलासा करने वाला प्रयोग किया, जहां उन्होंने टिकटॉक और इंस्टाग्राम पर 13 से 15 साल के बच्चों के रूप में 8 नए नकली अकाउंट बनाए, ताकि इन सोशल मीडिया के एल्गोरिथम से मिलने वाले कांरेट की जांच की जा सके।

पर आश्चर्यजनक रूप से, यह अकाउंट किसी को फॉलो नही कर रहे थे, पर तब भी इसके फीड पर अलग अलग तरह की स्वास्थ्य संबंधी मिसिनफोरमेशन आने लगी। जैसे कि झोलाछाप उपचार, गलत विज्ञान और बिना अनुप्रमाणित डायग्नोसिस। ये किसी के भी युवा यूजर के फिजिकल और मेंटल हेल्थ को हानि पहुंचाने के लिया काफी है। इसी के साथ यह वैज्ञानिक सबूतों और मेडिकल पेशेवरों में उनके विश्वास को कमजोर कर सकते हैं।

इन खातो में इसके अलावा हिंसक और कामुक चीजें जैसे अपराध, दुर्घटनाओं और झगड़े की विडियो के साथ-साथ इरोटिक मॉडल और सॉफ्ट पोर्न से संबंधित चीजें दिखने लगी। जो की साफ तौर पर आज के यंग यूजर्स के भावनात्मक और सामाजिक विकास को नुकसान पहुंचा सकते हैं, और साथ ही सेक्स और रिश्तों के प्रति उनके दृष्टिकोण और व्यवहार को भी प्रभावित कर सकते हैं। सीधी भाषा में कहा जाये तो, माइनर अकाउंट होने के बावजूद इन्स्टाग्राम पर 18+ कंटेंट आ रहा था।

Instagram के Telegraph Experiment की इस रिपोर्ट में एक्सपर्ट्स और प्रचारकों का हवाला दिया गया है जिन्होंने स्वास्थ्य संबंधी मिसइनफॉर्मेशन और ऑनलाइन नुकसान के खतरों के बारे में चेतावनी दी है, और सोशल मीडिया प्लेटफार्मों के लिए सख्त कानून और उसको लागू करने की मांग की है। रिपोर्ट में ऑनलाइन सेफ्टी बिल का भी उल्लेख किया गया है, जिस के लिए जल्द ही अमेरिका के संसद में वोटिंग होने की उम्मीद है। जिसमें द्वारा बच्चों की ऑनलाइन सुरक्षा में फेल होने वाले सोशल मीडिया मालिकों के लिए जुर्माना या यहां तक कि जेल की सजा भी देने का प्रावधान हो।

इस रिपोर्ट को आप यहाँ क्लिक कर पढ़ सकते है।

 

इन्स्टाग्राम पर अश्लील कंटेंट का उदय

obscenity reels on instagram

(The Rise of Obscene Content on Instagram)

इंस्टाग्राम पर कम कपड़े पहने लड़कियों के लिए और उनके डांस के लिए पोपुलर हो रहा है, जिसका सबसे बड़ा सबूत है किम कारदेशियन या काइली जेनर जैसे इनफ्लुएंसर टॉप इंस्टाग्राम फोलोवर ले कर बैठे है, क्योंकि उन्होंने अश्लील फोटो डाले हुए हैं। इस ही तरह भारत में सोफिया अंसारी, नेहा, कृतिका शर्मा, ऊर्फी जावेद जैसे इनफ्लुएंसर इसका उदाहरण है।

हर कोई इन्स्टाग्राम पर इन लोगो की तरह अचानक से सफल होना चाहता है, जिसके प्रभाव से बाकि लड़कियों पर भी इस ही तरह को फोटो या वीडियो डालने का दबाव पढ़ जाता है। पर हर कोई इन लोगो की तरह सफल नहीं हो पाता, जिस बात का फायदा कुछ लोग उठाते है। जैसे की यह केस:

Norway Drug Case: यहां पर नोर्वे में एक लड़की को इस ही तरह इंस्टाग्राम पर कनेक्ट किया गया यह कह कर मुझे आपके वीडियो पसंद आए, और उनके किसी ब्रांड को प्रमोट करने के लिए वो उनकी मदद चाहते हैं। इसके बाद उनके बीच एक मीटिंग हुई, लेकिन किसी तरह धोखे में रख के उस लड़की से 5–6 बार ड्रग्स डिलीवर करवा लिए गए, जब इस बात की सच्चाई उस लड़की को पता लगी, तो उस लड़की को जेल भेजने की धमकी के नाम पर अपने लिए काम करतें रहने के लिए मजबूर किया। यह सिर्फ एक लड़की की कहानी नहीं है, बल्की काफी लड़कियों के साथ यह सब हुआ है।

 

इंस्टाग्राम बच्चों के लिए नहीं

A teenage boy using phone

वैसे तो इंस्टाग्राम 18+ नहीं है, इसे 13 साल के बच्चों भी इस्तेमाल कर सकते है। इस रिपोर्ट से यह साफ जाहिर है की इसका एल्गोरिथम बेशक से बच्चों के लिए तो बिल्कुल नहीं है। बल्कि अगर आप भी अपने बच्चे की id बनाए तो आपके सामने अभी भी ऐसे ही कंटेंट आयेंगे।

बच्चो का Prefrontal cortex उतना मज़बूत होता ही नही है। उनकी डिसीजन मेकिंग क्षमता अभी भी विकसित हो रही होती है, जिसे से वह चीज़ों को देख कर, गलत और सही में अंतर समझने की हालत में नहीं होते हैं। लेने की जजमेंट में होते है। तो इस प्रकार के कंटेंट से वह जल्दी इनफ्लुएंस हो जाते हैं। और सबसे खतरनाक बात तो यह है की, इंस्टाग्राम पर बच्चों की भी गलत फोटो आ रही हैं और इंस्टाग्राम इसे कंट्रोल तक नहीं कर पा रहा है, और बच्चों की गलत फोटो आना बहुत ही भयानक बात है।

 

विज्ञापनों में महिलाओं के शरीर का वस्तुकरण

Women objectification in indian ads

(Objectification of women’s bodies in Advertisements)

एडल्ट कंटेंट को बढ़ावा देने की दिशा में इंस्टाग्राम के बदलाव ने एक परेशान करने वाले ट्रेंड को जन्म दिया है – जो है, महिलाओं के शरीर का मुद्रीकरण (Monetization of women’s body)।

ब्रांड अपने products को बढ़ावा देने के लिए एडल्ट कंटेंट की लोकप्रियता का फायदा उठा रहे हैं, अब चाहे वो किसी क्रीम का एड हो या किसी हेल्थ ड्रिंक का, यहां तक की कुछ लड़कियों को तो बैटिंग ऐप की ऐड के लिए भी इस्तेमाल किया जा रहा है, जिसमे में केवल एक नग्न नृत्य है और बैटिंग ऐप की क्लिप है। ये प्रोडक्ट मार्केट में वैसे सीधी तरह से नहीं बेचे जा सकते लेकिन इस तरह वुमेन बॉडी को इस्तेमाल करके इन्हें बेचा जा रहा है।

चॉकलेट की ऐड हो या किसी लडको वाले परफ्यूम की ऐड, इनमें आपको लडकियां आपको बिकनी पहने भी दिख जायेंगी, जिसका कोई लॉजिक नही है। ये किसी सुंदर सुडोल लड़की से हानिकारक क्रीम और ड्रिंक्स को प्रमोट करवाते है, जिसे देख बाकी लड़कियां भी ऐसी ही आइडलाइज बॉडी और चेहरे के लिए यह हानिकारक ड्रिंक्स, क्रीम या पाउडर लगा रही हैं।

 

ऑब्जेक्टिफिकेशन और मिसोजिनिस्ट मानसिकता

man chasing girl in bollywood

(Objectification and Misogynist Mindset)

इंस्टाग्राम वूमेन ऑब्जेक्टिफिकेशन और मिसोजिनिस्टिक माइंडसेट को भी प्रमोट कर रहा है। जब 13 से 15 साल के बच्चे चारों तरफ लड़कियों को केवल कम कपड़ों में डांस करता ही देखेंगे या फिर इंस्टाग्राम को कॉल गर्ल या कॉल मी सर्विस को प्रमोट करते ही दिखेंगे, तो उन्हे तो यही दिखेगा ना की लड़की एक एंटरटेनमेंट का साधन ही होती है।

उनके सामने दिखाई जाने वाली कोई महिला IAS नहीं है, महीला वकील लड़की नहीं है, कोई महिला आर्टिस्ट प्रमोट नहीं हो रही, उसके सामने केवल अश्लील नृत्य करती हुई लड़कियां दिख रही हैं, तो जो पहले ही समाज पितृ सत्तात्मक था, तो वो कभी महिला जाति का सम्मान ही नहीं कर पाएंगे।

कई लड़कियों ने तो यह तक कंप्लेंट की है कि यह सब होने के बाद, लड़कों का जो वायलेंट बिहेव बढ़ गया है। अब ऐसे में उन्हें समझाए कौन, बताए कौन? अफसोस को बात है की इंस्टाग्राम एजुकेशनल वीडियो को या एंटी मिसोजिनिस्टिक वीडियो को प्रमोट ही नही करता, उनके सामने दिखता ही नहीं है। तो कौन इन लोगो को समझाएगा की, फीमेल कोई प्रोडक्ट नहीं होती है।

 

महिलाओं का अनुपयुक्त करियर पर शिफ्ट

आज का इंस्टाग्राम लेस एफर्ट मोनेटाइजेशन कल्चर को प्रमोट कर रहा है। कोई लड़की कम कपड़ों में रील या फोटो डालें, जिसमें कोई डांस भी न हो तो भी उस पर मिलियन में व्यूज आ रहे हैं। वही दूसरी तरफ अगर आप अगर कोई डीप रिसर्च वाला कंटेंट देखो तो, उन पर उतने व्यू नहीं आ रहे हैं।

यहां अगर कोई लड़की पढ़ाई लिखाई, कॉलेज कर या फिर कोई टेक्निकल कोर्स भी करती है, तो पहले तो उसमे 2 से 3 साल आराम से लग जायेंगे। जिसके बाद भी नौकरी मिलने को कोई पूरी गारंटी नहीं है। और वही दूसरी तरफ इंस्टाग्राम में, कम कपड़े पहन कर डांस कर, ब्रांड कनेक्ट कर रहे है, अच्छे खासे पैसे कम समय में कमाए जा रहे हैं। जिसके लिए ना कुछ सीखना ना कुछ सिखाना, तो क्या किसी को भी ये ज्यादा बेहतर ऑप्शन नहीं लगेगा?

टेक्निकल दोस्त चैनल में, मैं एक वीडियो बनाने के लिए काम से 4 से 5 दिन की रिसर्च करता हूं। अगर मैं भी अपनी शॉर्ट्स में वीडियो डाल दूं और मुझे मिलियन व्यू आए, तो मैं खुद कोई की रिसर्च नहीं करूंगा, है ना? यही मोटिवेशन लड़कियों को मिल रहा है।

इस से प्रोफेशन इंबैलेंस खासकर लड़कियों में बढ़ रहा है। जिस से बाकी प्रोफेशन की तरफ अपने कदम ना बढ़ाते हुए कुछ लडकियां, इंस्टाग्राम और सोशल मीडिया के इनफ्लुएंस में आ कर इस ही तरह के काम शुरू कर देती है।

वैसे तो कोई कुछ भी बने, यह उनका फैसला है। पर कमाल की बात तो यह है, कि दुनियां में या किसी देश जब कोई भी प्रोफेशन एक लिमिट से ज्यादा हो जाएगा, जैसे कही 90% लोग केवल डॉक्टर ही डॉक्टर है तो वो देश डाउन चला जाएगा और ग्रो नहीं कर पाएगा। यहां पर सभी प्रोफेशन का एक बैलेंस होना चाहिए।

लेकिन क्योंकि कोई लड़की जो IAS, डॉक्टर या फोटोग्राफर बनना चाहती है, लेकिन उसमें उसको सफलता नहीं मिल रही। तो वो क्या करेगी? वो इंस्टाग्राम पर आके ऐसे नाच कर देगी और पैसे मिल जाएंगे। अधिकतर लोगों का किसी भी प्रोफेशन में जाने की वजह सिर्फ पैसा कमाना होता है। और जब पैसा कमाना इतना आसान है तो फिर इस तरह के ही काम बहुत हाई लेवल पर होने लगेंगे। जिस से उस देश का ग्रो कर पाना मुश्किल हो जाता है, किसी भी देश को हर तरह के करियर चाहिए।

मेंटल हेल्थ और बॉडी डिस्मोरफिया

बाकी छोटे-मोटे साइड इफेक्ट तो मैंने गिनाए नहीं, जिसमें मेंटल साइड इफेक्ट से लोग सुसाइड तक कर रहे हैं, लोगो को बॉडी ईशू हो रहा है, सेल्फ एस्टीम हो रहा है, और उनको लग रहा है कि हम घटिया से घटिया जीवन जी रहे हैं। लोगो की हालत पूरी खराब हो रही है, इसके लिए मैंने यह वीडियो भी बनाया है, आप क्लिक कर के देख सकते हैं।

लोगो को बॉडी डिस्मोरफिया जैसी खतरनाक बीमारी हो रही है।अमेरिका में 10 साल से छोटी 80% लड़कियों को ईटिंग डिसऑर्डर है, ये खाना तक ढंग से नहीं खाते। सोशल मीडिया ऐप पर, लोगो की परफेक्ट बॉडी देख देख कर, इन लोगो को अपनी बॉडी खराब लगने लगी है।

 

कार्रवाई की आवश्यकता

यह स्पष्ट है कि इंस्टाग्राम के खतरनाक परिवर्तन पर अंकुश लगाने के लिए तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है। यहां कुछ प्रस्तावित समाधान दिए गए हैं:

report button on Instagram

✔️ तुरंत रिपोर्ट करें: आप अपने स्तर पर फिलहाल इस तरह के कंटेंट को तुरंत रिपोर्ट कर सकते है। जब ज्यादा लोगो किसी फोटो या वीडियो को रिपोर्ट करते है, तो उस को रिव्यू कर इस प्लेटफॉर्म से हटा दिया जाता है।

✔️ आयु प्रतिबंध: सॉल्यूशन यह है कि पहले तो इंस्टाग्राम 18+ होना चाहिए सबसे बड़ी बात तो यह है इंस्टाग्राम को चाहिए कि इसे कंट्रोल करें यहां पर वो फर्क करें कि कौन सा एडल्ट कंटेंट है।

✔️ इंस्टाग्राम एल्गोरिथम में सुधार: 13 से 15 साल के बच्चों को विशेषकर यह जो कंटेंट प्रमोट किया जा रहा है, इनको रोकने के लिए अपने एल्गोरिथम को मजबूत करने की आवश्यकता है। पर फिलहाल इंस्टाग्राम तो उल्टा ही यहां पर AI सेक्स वर्कर प्रमोट किया जा रहे हैं। NBC की रिपोर्ट में तो पता चला है की सेक्स वर्कर की ऐड ही आ रही है। यहां लगता है इंस्टाग्राम या फेसबुक वगैरा इस यह सॉफ्ट पोर्न बंद करने के मूड में तो नहीं दिख रहे। क्योंकि अगर इन्हें यह बंद कर दिया तो हो सकता है की इनके बिजनेस पर इसका प्रभाव पड़े।

✔️ सरकारी हस्तक्षेप: सरकारों को हानिकारक कॉन्टेंट को बढ़ावा देने वाले व्यक्तियों के खिलाफ सक्रिय कदम उठाने चाहिए, जिससे सोशल मीडिया पर यौन शोषण में शामिल लोगों पर कानूनी कार्यवाही की जा सकें।

तो आखिर में जरूरी है की, इस तरह की चीज आप ना देखें। और अगर आपके सामने ऐसी चीज आती भी है तो उन्हें रीपोर्ट करें। अपने घर में बच्चों के सोशल मीडिया पर इस तरह के कंटेंट का विलोचन करें। यह बहुत जरूरी है कि इस छोटी उम्र में वह इन चीजों से दूर रहे जो की उनकी मानसिकता महिलाओं को लेकर ना खराब हो।

हर कोई इस वक्त हर घर में भाई वीडियो बनाना चाहता है क्योंकि वीडियो बनाने के लिए करना कुछ नहीं है। जिससे किसी का भला नहीं होता। और बेहतर होगा आप एजुकेशनल कंटेंट देखें जिससे आपकी लाइफ में वैल्यू ऐड हो सके।


Online Course Scams: A New Scam or a New Opportunity?Online Course Scams: A New Scam or a New Opportunity?

Share this Article
Leave a comment